Nazir Hussain Birth Anniversary: आजाद हिंद फौज के सिपाही रहे नजीर हुसैन ने बनाई थी भोजपुरी की पहली फिल्म

नजीर हुसैन (Nazir Hussain) एक इंडियन फिल्म एक्टर, डायरेक्टर और स्क्रीनराइटर थे. 15 मई 1922 को उत्तर प्रदेश के जिला गाजीपुर के उसिया गांव में हुआ था. करीब 500 से अधिक फिल्मों में चरित्र अभिनेता का किरदार निभाने वाले नजीर आजादी से पहले नेताजी सुभाषचंद्र बोस की आजाद हिंद फौज में शामिल हो देश को आजाद करवाने में अहम भूमिका भी निभाई थी. स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नजीर ने नेताजी के जीवन पर आधारित ‘पहला आदमी’ जैसी यादगार फिल्म बनाई. नजीर फिल्म इंडस्ट्री में आने की कहानी भी अजब इत्तेफाक है.

भारतीय सिनेमा के इतिहास के दिग्गज कलाकार नजीर हुसैन को आजाद हिंद फौज में काम करने की वजह से नौकरी नहीं मिल रही थी. ऐसे में उन्होंने नाटकों में काम करना शुरू कर दिया. न्यू थिएटर के बी एन सरकार को नजीर का काम इतना पसंद आया कि उन्हें अपने थियेटर में शामिल करने के लिए कोलकाता बुलाया. कोलकाता में उनकी मुलाकात बिमल रॉय से हुई और वह उनके असिस्टेंट बन गए. यहीं अपने एक्सपीरिएंस के आधार पर ‘पहला आदमी’ की कहानी लिखी, संवाद लिखे और अभिनय भी किया.

भोजपुरी फिल्मों के पितामह नजीर हुसैन.

बिमल रॉय के साथ कई यादगार फिल्में बनाई
1950 में रिलीज हुई इस फिल्म के बाद नजीर बिमल रॉय के साथ कई फिल्मों में काम किया. ‘दो बीघा जमीन’, ‘देवदास’, ‘नया दौर’ जैसी यादगार सामाजिक फिल्मों में शानदार अदाकारी दिखाई. हिंदी के साथ-साथ भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री को ऊचाई तक पहुंचाने में नजीर का बड़ा हाथ था. नजीर चूंकि भोजपुरी इलाके से आते थे इसलिए उनकी अपने भाषा की फिल्म बनाने में खासी दिलचस्पी रही. उन्हें भोजपुरी फिल्मों का पितामह भी कहा जाता है.

See also  The All-Round Wife Episode 10 Release Date Spoiler Cast Crew Promo & Story Detail

भोजपुरी फिल्मों के पितामह हैं नजीर हुसैन
भोजपुरी की पहली फिल्म ‘गंगा मइया तोहे पियरी चढ़इबो’ में एक्टर भी थे और फिल्म लिखा भी था. ये फिल्म इतनी जबरदस्त हिट हुई कि भोजपुरी जगत में भूचाल सा आ गया. इस तरह पहली भोजपुरी फिल्म बनाने वाले नजीर ने हमार संसार, बलम परदेसिया, चुटकी भर सेनुर जैसी कई शानदार फिल्में बनाई. खास बात ये रही है कि इन फिल्मों की शूटिंग अपने गांव और आस-पास के इलाको में करते थे.

nazir hussain

नजीर हुसैन ने करीब 500 फिल्मों में काम किया था.

अपने गांव से नजीर को था बहुत प्यार
नजीर हुसैन भले ही मुंबई में रहे लेकिन अपने गांव-कस्बे इलाके से जीवन भर जुड़े रहे. फिल्मों को लेकर एक एक्टर-लेखक के लिए इससे बड़ी बात और क्या होगी कि आखिरी सांस तक फिल्म निर्देशन करते रहे. कहते हैं कि ‘टिकुलिया चमके आधी रात’ के निर्देशन के दौरान ही निधन हुआ था.

Tags: Actor, Bhojpuri actor, Birth anniversary, Bollywood actors

See also  Ranveer Singh, Alia Bhatt Reluctant To Kiss in Rocky Aur Rani Ki Prem Kahani